Darad Dihala Bhore Bhore Lyrics Ritesh Pandey

0

Darad Dihala Bhore Bhore Lyrics Ritesh Pandey. Bhore Bhore Saiya Bhore Bhore Dihle Darad Pore Pore New Bhojpuri Song By Ritesh Pandey. Lyrics Written By Shakti Vishunpuri While Music By Chhotu Rawat.

Darad Dihala Bhore Bhore Lyrics
मुंह पs गारी आवता
अंगे अंग गरियावता

मुंह पs गारी आवता
अंगे अंग गरियावता
सईया से प्यार से पोल्हा के
देह से देहिया दबले जोरे जोरे, जोरे जोरे,
भोरे भोरे सईया भोरे भोरे
दरद दिहले पोरे पोरे
भोरे भोरे सईया भोरे भोरे
दरद दिहले पोरे पोरे

खिंच के उतार दिहले
जबरी हमार साड़ीया
अकवरिया धईले राजाजी
पजरिया धईले पांजाजी

हंसिये मजाक में पोछ्ले
ओठवा के ललिया
हाथ डलले उचा खाला जी
की अभी ले भाभाला जी

कबो ऊपर कबो निचे
चुमले कुलही देहिया गोरे गोरे, गोरे गोरे
भोरे भोरे सईया भोरे भोरे
दरद दिहले पोरे पोरे
भोरे भोरे सईया भोरे भोरे
दरद दिहले पोरे पोरे

मुंह मारो अईसन
प्यार में पगलाईला के
अब केकरा से बताई जी
दवाई कवन खाई जी

तनी ना सोहाला हमरा
पिया के रहनिया
नाही बुझले मजबूरी जी
शक्ति शोना विसुनपुरी जी

हटे घर के सामान
ना सधावे जानस थोरे-थोरे, थोरे-थोरे
भोरे भोरे सईया भोरे भोरे
दरद दिहले पोरे पोरे
भोरे भोरे सईया भोरे भोरे
दरद दिहले पोरे पोरे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here